25.7 C
Mathura
Friday, February 23, 2024

चित्रकूट की पवित्र नदी मंदाकिनी को प्रदूषण और गंदगी से बचाने उतरे युवा ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री योगी व शिवराज को खून से लिखा पत्र

मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की पावन तपस्थली पवित्र नगरी चित्रकूट धाम में तपोबल प्रभाव से उद्गमित होकर बहने वाली पावन पुण्य सलिला पवित्र नदी मंदाकिनी वर्तमान समय में अपने अस्तित्व के संकट से जूझ रहीं है।कारण ये है की लगभग एक सैकड़ा से अधिक नाले जाकर पवित्र नदी में गिर रहे है चित्रकूट में नदी किनारे बने बड़े बड़े मठ मंदिरों से निकलने वाले गंदे पानी से पवित्र नदी की हालत बिगाड़कर रख दी है। वर्तमान समय में अगर यह कहा जाए तो अतिशयोक्ति नहीं होगी कि “पवित्र नदी मंदाकिनी” तिल तिल कर मृत्यु को प्राप्त हो रही है। तिल तिल कर मर रही पवित्र नदी मंदाकिनी को बचाने चित्रकूट के युवा पत्रकार अनुज हनुमत ने अपने खून से यूपी और एमपी के मुख्यमंत्रियों सहित देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा गया है। अनुज हनुमत ने बताया गया कि भगवान श्री राम की पावन तपस्थली पवित्र नगरी चित्रकूट धाम सदैव से ही ऋषि मुनियों की तपस्थली रही है। महासती अनुसुइया द्वारा अपने तपोबल से पवित्र नदी मंदाकिनी को उद्गमित किया गया था।ऐसा शास्त्रों और पुराणों में वर्णन मिलता है। वही पवित्र नदी मंदाकिनी वर्तमान समय में अपने अस्तित्व के संकट से जूझ रहीं है।जहां वर्तमान समय में लगभग एक सैकड़ा नाले सीधे नदी में गिरकर नदी को प्रदूषित कर रहे हैं। तो वही नदी किनारों पर लगातार अतिक्रमण के चलते नदी के जल श्रोत धीरे धीरे बंद हो रहे हैं।उन्होंने बताया कि पूर्व में भी उनके द्वारा प्रधानमंत्री को खून से पत्र लिखा जा चुका है।साथ ही कई बार यूपी और एमपी के प्रशासन को भी अवगत करवाया जा चुका है।बावजूद आज तक कोई हल नहीं निकल सका है। अतः एक बार पुनः यूपी और एमपी के मुख्यमंत्रियों सहित देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खून से पत्र लिखकर पवित्र नदी मंदाकिनी को बचाने की गुहार लगाई जा रही है।अनुज हनुमत ने कहा कि तिल तिल कर मर रही पवित्र नदी को बचाने की दिशा में अगर समय रहते ध्यान नहीं दिया गया,तब फिर चित्रकूट के अस्तित्व पर ही प्रश्न चिन्ह उठ खड़ा हो जाएगा।पूर्व में भी अनुज हनुमत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था और वो लगातार मंदाकिनी नदी को पुनर्जीवित करने हेतु प्रयासरत हैं

Latest Posts

रियल पब्लिक स्कूल के छात्र-छात्राओं को कुमकुम लगाकर बोर्ड परीक्षा के लिए भेजा गया

रियल पब्लिक स्कूल के छात्र-छात्राओं को कुमकुम लगाकर बोर्ड परीक्षा के लिए भेजा गया

संस्कृति विवि में ब्रज के साहित्य और कला पर हुआ गहन मंथन

संस्कृति विवि में ब्रज के साहित्य और कला पर हुआ गहन मंथन

ब्रज साहित्योत्सव में पूर्व केंद्रीय मंत्री ने की ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ की बात

ब्रज साहित्योत्सव में पूर्व केंद्रीय मंत्री ने की ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ की बात

रियल पब्लिक स्कूल ने मनाया विदाई समारोह

रियल पब्लिक स्कूल ने मनाया विदाई समारोह

बीसीए डिग्रीधारियों के लिए जॉब के अवसरों की कमी नहीं

बीसीए डिग्रीधारियों के लिए जॉब के अवसरों की कमी नहीं

Related Articles