32.5 C
Mathura
Friday, July 12, 2024

अभय शिक्षा केन्द्र के छात्रों के दैनिक जीवन का अंग बना योग

अभय शिक्षा केन्द्र के छात्रों के दैनिक जीवन का अंग बना योग

अक्षय पात्र फाउण्डेशन वृन्दावन द्वारा संचालित परिषदीय विद्यालयों की संध्याकालीन कक्षाओं में नवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर छात्र एवं छात्राओं द्वारा योग के विभिन्न आसनों का प्रदर्शन किया गया। इस दौरान अभय शिक्षा केन्द्र बाटी, मघेरा, भरतिया, मांट, मुखराई, गोकुल, गांठोली सहित 27 केन्द्रों पर 1674 छात्र-छात्राओं द्वारा योग आसनों की कला का प्रदर्शन किया गया।
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर अभय कार्यक्रम संयोजक जितेन्द्र शर्मा ने बताया कि अक्षय पात्र संस्था द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में संचालित अभय शिक्षा केन्द्रों पर परिषदीय विद्यालयों में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं के सर्वांगीण विकास के लिए भाषा (हिन्दी, अंग्रेजी) एवं गणित की कक्षाओं के संचालन के साथ साथ विभिन्न अतिरिक्त सह पाठ्यक्रम गतिविधियों के साथ कक्षाओं का संचालन किया जाता है। उन्होंने बताया कि हम अभय शिक्षा केन्द्र में अध्ययन करने वाले विद्यार्थियों में नियमित अच्छे संस्कारों का विकास कर रहे हैं, जिससे वह देश में एक अच्छे नागरिक के रूप में अपना योगदान प्रदान करें। शरीर एवं मस्तिष्क को चुस्त-दुरुस्त रखने के लिए हमारे विद्यार्थियों द्वारा नियमित रूप से प्रातः काल, अपने निज-निवास पर अनुलोम-विलोम प्राणायाम, सूर्य नमस्कार, ताड़ासन, आदि आसनों का अभ्यास किया जाता है।
अभय कार्यक्रम पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने बताया कि संस्था द्वारा इस कार्यक्रम का शुभारम्भ अक्टूबर 2018 में किया गया। वर्तमान में संस्था के द्वारा 30 ज्ञान दीदी की सहायता से अभय कार्यक्रम की संध्याकालीन कक्षाओं का संचालन किया जा रहा है।

अभय शिक्षा केन्द्र के छात्रों के दैनिक जीवन का अंग बना योग

Latest Posts

संस्कृति विवि के विद्यार्थियों को कॉन्टिनुआ कंपनी ने दी नौकरी

संस्कृति विवि के विद्यार्थियों को कॉन्टिनुआ कंपनी ने दी नौकरी

बाढ़ पीड़ितों की मदद को आगे आए सपा नेता राजू

बाढ़ पीड़ितों की मदद को आगे आए सपा नेता राजू

कैंसर के खिलाफ लड़ाई में ऑन्कोलॉजी काफी मददगारः डॉ. सुरेंद्र सिंह

कैंसर के खिलाफ लड़ाई में ऑन्कोलॉजी काफी मददगारः डॉ. सुरेंद्र सिंह

महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय डीग मे आयोजित हुआ भामाशाह का सम्मान समारोह

महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय डीग मे आयोजित हुआ भामाशाह का सम्मान समारोह

मैं सेना की वजह से ज़िंदा हूँ : देबस्मिता राणा

मैं सेना की वजह से ज़िंदा हूँ : देबस्मिता राणा

Related Articles