40.4 C
Mathura
Thursday, April 25, 2024

यह है भारत का ऐसा मंदिर जो साल में खुलता है केवल एक बार, जानिए क्या है इस मंदिर का असली रहस्य

हमारे देश में प्राचीन इतिहास और उनकी घटनाओं को व्यक्त करने वाले बहुत से मंदिर हैं और इनमें कई सारे कई शिव मंदिर ऐसे भी हैं जहां पर पहुँचने के लिए भक्तों को काफी कठिन यात्रा भी करनी होती है

तो इसी कड़ी में आज हम आपको एक ऐसे ही भगवान शिव के मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जहां पर मत्था टेकने के लिए श्रधालुयों को पूरे साल इंतजार करना होता है |


दरअसल आपको बता दें की जयपुर स्थित जेएलएन मार्ग पर बिरला मंदिर के पीछे मोती डूंगरी पर अपने गौरवशाली इतिहास के लिए जाने, जाने वाला शिव मंदिर शंकर गढ़ी के द्वार खुलने का भक्त एक साल तक इन्तजार करते है |


आपको बता दे की यहां पर इस मंदिर को अंत्यन्त चमत्कारी माना जाता है और यह मंदिर जयपुर की स्थापना से भी पहले बानया गया था |


इस मंदिर में सिर्फ भोलेनाथ शिवलिंग के रुप में विराजमान है और यह भी कहा जाता है कि पहले शिव के साथ शिव परिवार की स्थापना की थी लेकिन कुछ समय बाद उनकी प्रतिमाएं गायब हो गई थी, इसके पश्चात फिर शिव परिवार की स्थापना की गई लेकिन एक बार फिर शिव परिवार अदृश्य हो गया |


इतना ही नहीं आपको यह भी बता दें कि इस घटना के बाद किसी ने फिर मूर्तियों को स्थापित करने का साहस नहीं किया |


अब यहां राज परिवार की ओर से पूजा-अर्चना की जाती थी और यह मंदिर साल में एकबार ही खुलता है इसलिए शिवरात्रि के दिन इसके प्रति श्रद्धालुओं में विशेष आकर्षण होता है |


फिलहाल करीब एक किलोमीटर की चढ़ाई कर एवं कई घंटों तक लाइन में लग कर लोग यहां भगवान के दर्शन के लिए आते हैं और यही कारण है कि यह चर्चा में रहता है और इसकी बड़ी मान्यता भी है |

Latest Posts

संस्कृति विवि के प्रोफेसर ग्रीस दूतावास द्वारा हुए सम्मानित

संस्कृति विवि के प्रोफेसर ग्रीस दूतावास द्वारा हुए सम्मानित

जीएल बजाज इंस्टीट्यूट ने 2021-23 के पीजीडीएम बैच के लिए एक महत्वपूर्ण दीक्षांत समारोह का किया आयोजन

जीएल बजाज इंस्टीट्यूट ने 2021-23 के पीजीडीएम बैच के लिए एक महत्वपूर्ण दीक्षांत समारोह का किया आयोजन

मोनाली ठाकुर के गीतों पर देर रात तक नाचे संस्कृतियन

मोनाली ठाकुर के गीतों पर देर रात तक नाचे संस्कृतियन

तेज प्रताप यादव कन्नौज लोकसभा सीट से सपा प्रत्याशी घोषित

तेज प्रताप यादव कन्नौज लोकसभा सीट से सपा प्रत्याशी घोषित

संस्कृति विवि में ईशा देओल ने लगाए ठुमके, आह्ना ने बताया मतदान जरूरी

संस्कृति विवि में ईशा देओल ने लगाए ठुमके, आह्ना ने बताया मतदान जरूरी

Related Articles