21.1 C
Mathura
Sunday, March 3, 2024

विचारों और अंतर्दृष्टि का आदान-प्रदान समयानुकूल

जीएल बजाज में पूर्व छात्र सम्मेलन ओडिसी-23 का आयोजन

जी.एल. बजाज ग्रुप आॉफ इंस्टीट्यूशंस, मथुरा में पूर्व छात्र सम्मेलन ओडिसी-23 का आयोजन किया गया। इस अवसर पर 2012 से 2021 तक के पासआउट छात्र-छात्राओं ने जी.एल. बजाज संस्थान के अपने अनुभव और यहां की विशिष्टताएं बताईं। कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि प्रो. मंजू खत्री, निदेशक प्रशिक्षण और प्लेसमेंट, जीएल बजाज इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट, ग्रेटर नोएडा ने मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित कर किया।


जीएल बजाज ग्रुप आफ इंस्टीट्यूशंस, मथुरा की निदेशक प्रो. नीता अवस्थी ने उद्घाटन भाषण में पूर्व छात्र सम्मेलन ओडिसी-23 के आयोजन की जानकारी देते हुए कहा कि इसका उद्देश्य पूर्व छात्रों को फिर से जुड़ने, नेटवर्क बनाने और एक-दूसरे के साथ अपने अनुभव साझा करने के लिए एक मंच प्रदान करना है। इससे समुदाय की भावना के साथ नए और पुराने छात्र-छात्राओं के बीच सम्बन्ध प्रगाढ़ होंगे। इससे विचारों और अंतर्दृष्टि का आदान-प्रदान करने में मदद मिलेगी, जोकि समय की जरूरत भी है।


इसके बाद, एक पूर्व छात्र वार्ता सत्र आयोजित किया गया। इस अवसर पर पूर्व छात्र-छात्राओं ने अपनी कामयाबी का श्रेय जी.एल. बजाज के प्राध्यापकों को देते हुए कहा कि अध्ययन के लिए अच्छा संस्थान मिलना विद्यार्थी जीवन की सबसे बड़ी सफलता होती है। पूर्व विद्यार्थियों ने अपने पुराने अनुभव साझा करते हुए बताया कि किस प्रकार उन्हें गुरुजनों का प्यार व फटकार मिली, तब जाकर वह अच्छे मुकाम पर पहुंचे। एक पूर्व छात्रा दीक्षा जोकि लंदन (यूके) में रहती है, गूगल मीट के माध्यम से आनलाइन सम्मेलन में शामिल हुई। इस अवसर पर एक छात्र ने कहा कि यह पुनर्मिलन संस्थान के वर्तमान और उसके पूर्व छात्रों के बीच सेतु का काम करेगा। ओडिसी-23 ने ऐसा मंच प्रदान किया है, जहां वर्तमान छात्र अपने वरिष्ठों के अनुभवों और उपलब्धियों से बहुत कुछ सीख पाएंगे।


इस अवसर पर संस्थान के जूरी सदस्यों द्वारा उपलब्धियों के आधार पर पांच पूर्व छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया गया। सम्मानित होने वालों में गौरव अग्रवाल आईटी बैच 2013, केतन कुमार अरोड़ा आईटी बैच 2013, गौरी आर.आर. सिंह बीआर्क बैच 2018, वीरेंद्र कुमार सीएसई बैच 2020 तथा सूरथ सिंह सीएसई बैच 2021 शामिल हैं। अंत में धन्यवाद ज्ञापन सीएसई के विभागाध्यक्ष डॉ. रमाकांत बघेल ने दिया। कार्यक्रम में समन्वयक प्रो. संजीव सिंह, डॉ. नक्षत्रेश कौशिक, डीएसडब्ल्यू, चेस्टा भारद्वाज, ऋचा मिश्रा, मोहम्मद मोहसिन आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन पूर्व छात्र सूरथ सिंह के साथ वर्तमान छात्रा इशिता अग्रवाल और प्राची वशिष्ठ ने किया।

विचारों और अंतर्दृष्टि का आदान-प्रदान समयानुकूल

Latest Posts

मानवता को शर्मसार करती ममता सरकार- नायक

मानवता को शर्मसार करती ममता सरकार- नायक

आरआईएस के होनहार विद्यार्थियों ने हासिल की इंटरनेशनल रैंक

आरआईएस के होनहार विद्यार्थियों ने हासिल की इंटरनेशनल रैंक

राजीव एकेडमी की छात्रा मनीषा गौतम ने एम.एड. में किया विश्वविद्यालय टॉप

राजीव एकेडमी की छात्रा मनीषा गौतम ने एम.एड. में किया विश्वविद्यालय टॉप

बीएएमएस की परीक्षा में तलाशी अभियान में दो नकलची पकड़े गए

बीएएमएस की परीक्षा में तलाशी अभियान में दो नकलची पकड़े गए

संस्कृति विवि में हुई सेमिनार में वक्ताओं ने बताया वैदिक गणित का महत्व

संस्कृति विवि में हुई सेमिनार में वक्ताओं ने बताया वैदिक गणित का महत्व

Related Articles